लोकसभा चुनाव 2024 एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने ईद सेलिब्रेशन पर पीएम नरेंद्र मोदी पर हमला बोला

पीएम मोदी की ईद टिप्पणी पर ओवैसी: ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ईद मनाने की बात पर तंज कसा है. ओवैसी ने कहा, ’10 साल में उन्होंने कभी भी अपने घर पर एक भी इफ्तार पार्टी नहीं दी और न ही एक भी मुस्लिम को टिकट दिया।’

टीवी-9 भारतवर्ष के एक कार्यक्रम में ओवैसी ने कहा, ”सर, छोड़िए…हमने पिछले 10 साल से अपने घर पर इफ्तार का आयोजन नहीं किया है…मेरे घर का ड्राइवर मुस्लिम था…ये पुराने डायलॉग हैं, उस समय के. चित्र में यह अच्छा लग रहा था. एक भी मुस्लिम को टिकट नहीं दिया गया है. क्या आपने नरेंद्र मोदी को भारत में किसी मुस्लिम को गले लगाते देखा है? आपने मोदी को मुहम्मद बिन सलमान, मुहम्मद बिन जायद को गले लगाते हुए देखा होगा।

यहां के मुसलमानों की अरब देशों से तुलना को गलत बताया

जब औवेसी से पूछा गया कि आप पीएम मोदी को मुस्लिम विरोधी कहते हैं, लेकिन मुस्लिम देशों से अच्छे संबंधों की वजह से बिजनेस हो रहा है. इस पर ओवैसी ने कहा कि आप भारत के प्रधानमंत्री हैं या यूएई के. मोदी जी बार-बार कहते हैं कि दुनिया बदल गई है, मुसलमान बदल रहे हैं, जब मैं अरब देश जाता हूं… मुझे अरब देश से क्या लेना-देना… भारतीय लोग वहां जाते हैं और काम करते हैं… निश्चित रूप से मक्का और मदीना। यह हमारे लिए खुशी की जगह है, लेकिन मैं इस देश का हूं। वहां कमाओ, लेकिन पैसा यहां लाओ.

‘कुलभूषण के परिवार को कोई नहीं पूछता’

अच्छे संबंधों के चलते कतर से भारतीय पूर्व सैनिकों की रिहाई पर नाराजगी जताते हुए ओवैसी ने कहा कि सबसे पहले हमें यह जानना चाहिए कि इन लोगों को सजा क्यों दी गई. एमएचए वालों को बैठाओ और पूछो… मप्र में यह मांग करने वाला मैं पहला व्यक्ति था। मुस्लिम देशों से अच्छे तालमेल की बात करें तो कुलभूषण पाकिस्तान में फंसे हैं, उन्हें लाओ…वो भी भारत के नागरिक हैं. उनके परिवार को कोई पूछता तक नहीं.

‘देश बदल रहा है तो लोग विदेश क्यों जा रहे हैं?’

इतने सारे लोग अमेरिका जाने के लिए जमैका गए. फ्लाइट वहीं से वापस आ रही है. हमारे 20-25 हजार लोग गलत तरीके से इंग्लैंड चले गये हैं, उन्हें भी वापस लाना होगा. अगर देश बदल रहा है तो इतने सारे लोग क्यों जा रहे हैं?

‘मुसलमानों के लिए छात्रवृत्ति से जुड़ी कई योजनाएं बंद’

पीएम मोदी पर हमला बोलते हुए ओवैसी ने कहा कि उनकी मुस्लिम विरोधी छवि विपक्ष ने नहीं, बल्कि उन्होंने खुद बनाई है. अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय में एक कार्यक्रम है ‘प्रधानमंत्री 15 सूत्रीय कार्यक्रम’…पीएम मोदी ने 10 साल में इसकी एक भी बैठक नहीं ली है. मोदी सरकार ने प्री-मैट्रिक छात्रवृत्ति को 9वीं कक्षा से बढ़ा दिया, जबकि अल्पसंख्यक मुसलमानों के बीच ड्रॉपआउट कक्षा 4-5 से है। मोदी सरकार ने मौलाना आज़ाद एजुकेशन फाउंडेशन को बंद कर दिया. आप मुझे बताएं कि इससे किसको नुकसान हो रहा है.

ये भी पढ़ें

लोकसभा चुनाव 2024: बहुमत नहीं मिला तो क्या करेगी बीजेपी? ताजा इंटरव्यू में अमित शाह ने बड़ा दावा किया है