लोकसभा चुनाव 2024 पांचवें चरण का मतदान, राहुल गांधी रायबरेली सीट से और केएल शर्मा अमेठी सीट से

लोकसभा चुनाव 2024 पांचवें चरण का मतदान: लोकसभा चुनाव 2024 के पांचवें चरण का मतदान जारी है. इस चरण में कई बड़े नाम हैं जो इस बार नई सीट पर अपनी किस्मत आजमा रहे हैं. कुछ वीआईपी सीटों पर नए उम्मीदवार हैं. इन बदमाशों के लिए नई सीट और नई जनता के बीच खुद को स्थापित करना इतना आसान नहीं होगा.

विरोधियों के बाउंसरों के बीच ये दिग्गज किस तरह की पारी खेलते हैं ये तो 4 जून को नतीजे आने के बाद ही पता चलेगा, लेकिन फिलहाल राजनीति की नई पिच पर खेल रहे इन दिग्गजों की धड़कनें जरूर बढ़ गई हैं. यहां हम आपको ऐसी ही कुछ सीटों और उम्मीदवारों के बारे में बता रहे हैं जो एक नए मैदान में उतरे हैं।

1. राहुल गांधी, रायबरेली से

रायबरेली सीट कांग्रेस का गढ़ रही है. सोनिया गांधी यहां से सांसद थीं, लेकिन इस बार वह चुनाव नहीं लड़ रही हैं. ऐसे में यहां से राहुल गांधी मैदान में हैं. उम्मीदवारी के लिहाज से राहुल के लिए यह सीट नई है. वह 2019 तक अमेठी से जीतते आ रहे थे, लेकिन 2019 में उन्हें अमेठी सीट पर बीजेपी की स्मृति ईरानी ने हरा दिया था. राहुल फिलहाल केरल की वायनाड सीट से सांसद हैं और इस बार भी उन्होंने रायबरेली के अलावा वायनाड से भी चुनाव लड़ा है. इस बार रायबरेली में एक तरफ कांग्रेस से राहुल गांधी हैं तो दूसरी तरफ बीजेपी से दिनेश प्रताप सिंह हैं.

इस सीट से फिरोज गांधी, इंदिरा गांधी, सोनिया गांधी चुनाव जीतते रहे. कांग्रेस इस सीट को बचाने के लिए जनता से भावनात्मक अपील भी कर रही है. सोनिया गांधी ने यहां लोगों से कहा कि मैं अपना बेटा आपको सौंप रही हूं. हालांकि, एक बड़ा सच ये है कि पिछले दो चुनावों में रायबरेली में कांग्रेस की जीत का अंतर कम हुआ है. 2009 में कांग्रेस को यहां 72.23 फीसदी वोट मिले थे, जो 2014 में घटकर 63.80 फीसदी और 2019 में घटकर 55.80 फीसदी पर आ गए.

2. किशोरी लाल शर्मा अमेठी से

2019 के चुनाव तक अमेठी कांग्रेस का गढ़ था और राहुल गांधी यहां से सांसद बनते रहे थे, लेकिन 2019 के चुनाव में स्मृति ईरानी ने उन्हें हरा दिया। इस बार अमेठी की प्रतिष्ठा वापस पाने के लिए कांग्रेस ने अपने एक ऐसे सेनापति को मैदान में उतारा है जो इस क्षेत्र में लंबे समय से काम कर रहे हैं। पार्टी ने यहां से किशोरी लाल शर्मा को अपना उम्मीदवार बनाया है। किशोरी लाल लंबे समय से इस क्षेत्र में काम कर रहे थे। यही वजह है कि इस बार अमेठी में कड़ी टक्कर की बात कही जा रही है।

3. कैसरगंज से करन सिंह

दंगल के 5वें चरण में जिन सीटों पर पूरे देश की नजरें टिकी हैं. इसमें कैसरगंज भी शामिल है। इस सीट पर बीजेपी ने बृजभूषण शरण सिंह की जगह उनके बेटे करण सिंह को मैदान में उतारा है, लेकिन बृजभूषण शरण सिंह और महिला पहलवान के बीच विवाद पूरा खेल बदल सकता है.

ये भी पढ़ें

लोकसभा चुनाव 2024: राहुल गांधी और अखिलेश यादव की रैली में क्यों मची भगदड़? सामने आई ये बड़ी वजह