लोकसभा चुनाव 2024: BJD को झटका, 5 बार के विधायक बीजेपी में शामिल, एक दिन पहले दिया था BJD से इस्तीफा

भुवनेश्वर. ओडिशा विधानसभा के पांच बार सदस्य रहे अरविंद ढाली और पूर्व भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) अधिकारी हृषिकेश पांडा रविवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल हो गए। बीजद के पूर्व विधायक मुकुंद सोदी, सेवानिवृत्त एयर मार्शल दिलीप कुमार पटनायक, राज्यसभा में पूर्व संयुक्त सचिव रमाकांत दास और बीजद के दिगपहांडी ब्लॉक अध्यक्ष बिपिन प्रधान भी भाजपा में शामिल हुए। धाली ने शनिवार को ही राज्य में सत्तारूढ़ बीजू जनता दल (बीजेडी) से इस्तीफा दे दिया था। वह अपने समर्थकों के साथ भुवनेश्वर में भाजपा कार्यालय पहुंचे और पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष मनमोहन सामल और सांसद अपराजिता सारंगी और अन्य की उपस्थिति में भाजपा में शामिल हुए।

पूर्व विधायक मुकुंद सोदी भी बीजेडी से इस्तीफा देकर अरविंद धाली के साथ बीजेपी में शामिल हो गए थे. धाली ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में आरोप लगाया कि बीजेडी के अंदर कोई लोकतंत्र नहीं बचा है और वरिष्ठ नेताओं की अनदेखी की जा रही है. उन्होंने कहा, ‘घुटन महसूस करने के बाद मैंने बीजेडी छोड़ दी और बीजेपी में शामिल हो गया जहां आंतरिक लोकतंत्र है.’

लोकसभा चुनाव 2024: ‘मैं AAP से पूछना चाहता हूं कि…’ बांसुरी स्वराज ने आतिशी को दिया करारा जवाब

100 से ज्यादा सीटें जीतने का दावा
खुर्दा जिले के जयदेव से विधायक धाली ने दावा किया कि भाजपा 147 विधानसभा सीटों में से 100 से अधिक सीटें जीतकर राज्य में अगली सरकार बनाएगी। धाली पहली बार 1992 में भाजपा के टिकट पर उपचुनाव में मलकानगिरी सीट से विधानसभा के लिए चुने गए थे। उन्होंने इस सीट से दो बार और जीत हासिल की. इसके बाद वह बीजेडी में शामिल हो गए और 2009 में जयदेव से विधानसभा के लिए चुने गए। उन्होंने 2019 का चुनाव भी इसी सीट से जीता।

अरविंद ढाली, विधि स्नातक
कानून स्नातक धाली ने मुख्यमंत्री नवीन पटनायक के नेतृत्व वाली बीजद-भाजपा गठबंधन सरकार में मंत्री के रूप में कार्य किया। आईपीएस के 1979 बैच के टॉपर पांडा एक मशहूर उपन्यासकार भी हैं। बीजेडी ने दावा किया कि धाली के बीजेपी में शामिल होने से उस पर कोई असर नहीं पड़ेगा. बीजेडी के वरिष्ठ नेता राज किशोर दास ने कहा, ‘चुनाव से पहले कई राजनीतिक नेताओं का एक पार्टी से दूसरी पार्टी में जाना सामान्य बात है. जिन नेताओं के जीतने की संभावना बहुत कम है और उन्हें पता है कि पार्टी उन्हें उम्मीदवार नहीं बनाएगी, वे बीजद छोड़ रहे हैं.

टैग: बीजेपी, लोकसभा चुनाव 2024