वह कभी दुनिया में शतरंज का बादशाह था, अब रूस ने उसे आतंकवादियों की सूची में शामिल कर लिया है।

मास्को. रूस की वित्तीय निगरानी संस्था ने शतरंज के ग्रैंडमास्टर और राजनीतिक कार्यकर्ता गैरी कास्पारोव को ‘आतंकवादियों और चरमपंथियों’ की सूची में शामिल किया है। 60 वर्षीय पूर्व विश्व शतरंज चैंपियन लंबे समय से राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के प्रतिद्वंद्वी रहे हैं और उन्होंने यूक्रेन में रूस के सैन्य हमले के खिलाफ बार-बार बोला है। रूसी संगठन रोसफिनमोनिटोरिंग वॉचडॉग मनी लॉन्ड्रिंग और आतंकवादी फंडिंग से निपटने के लिए जिम्मेदार है और सूची में शामिल लोगों के बैंक खाते जब्त किए जा सकते हैं। रोसफिनमोनिटोरिंग ने बिना कोई कारण बताए सोवियत मूल के कास्परोव को ‘आतंकवादियों और चरमपंथियों’ के अपने डेटाबेस में जोड़ा है।

मानवाधिकार समूहों का कहना है कि यह एक लेबल और तरीका है जिसका इस्तेमाल क्रेमलिन अपने आलोचकों को चुप कराने के लिए करता है। साथ ही उन लोगों पर ‘विदेशी एजेंट’ का लेबल लगाया जाता है जिन्हें सरकार के दुश्मन के तौर पर देखा जाता है. गैरी कास्परोव को दुनिया के महानतम शतरंज खिलाड़ियों में से एक माना जाता है। वह एक दशक से अधिक समय तक अमेरिका में रहे हैं, जहां उन्होंने राजनीतिक सक्रियता पर ध्यान केंद्रित किया है।

एलेक्सी नवलनी की मौत पर बड़ा खुलासा, रूस की टॉप सीक्रेट सर्विस के चीफ बोले- अंत में हर किसी को मरना है…

पिछले साल फरवरी में उन्होंने पश्चिम से कीव के लिए अपना समर्थन जारी रखने का आग्रह किया था और कहा था कि रूस में लोकतांत्रिक परिवर्तन लाने के लिए यूक्रेन को “पूर्व शर्त” के रूप में मास्को को हराना होगा। कास्पारोव उत्पीड़न के डर से 2014 में रूस से भाग गया था। 2022 में रूसी न्याय मंत्रालय ने कास्पारोव और पूर्व तेल व्यवसायी मिखाइल खोदोरकोव्स्की को ‘विदेशी एजेंटों’ की अपनी सूची में रखा, और उन्हें कठोर नौकरशाही और वित्तीय रिपोर्टिंग के अधीन कर दिया।

टैग: रूस, आतंकवादी, विश्व समाचार, विश्व समाचार हिंदी में