वाइब्रेंट गुजरात समिट में हिस्सा लेने अहमदाबाद पहुंचे पीएम मोदी, दुनिया के कई बड़े नेता लेंगे हिस्सा, इस शख्स की रहेगी खास अहमियत

पर प्रकाश डाला गया

वाइब्रेंट गुजरात समिट में हिस्सा लेने के लिए पीएम मोदी अहमदाबाद पहुंचे.
शिखर सम्मेलन में दुनिया के कई बड़े नेता हिस्सा लेंगे.
पीएम मोदी ने ट्वीट कर अपनी खुशी जाहिर की.

नई दिल्ली। पीएम मोदी दो दिवसीय वाइब्रेंट गुजरात समिट में हिस्सा लेने के लिए अहमदाबाद पहुंच गए हैं. उन्होंने अपने एक्स (ट्विटर) हैंडल पर लिखा कि मैं थोड़ी देर पहले अहमदाबाद पहुंचा हूं। प्रधानमंत्री अगले दो दिनों में वाइब्रेंट गुजरात समिट और संबंधित कार्यक्रमों में हिस्सा लेंगे.

अहमदाबाद एयरपोर्ट पर पीएम मोदी का स्वागत गुजरात के सीएम भूपेन्द्र पटेल और राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने किया. पीएम मोदी ने लिखा कि यह बेहद खुशी की बात है कि इस शिखर सम्मेलन के दौरान विश्व के विभिन्न नेता हमारे साथ जुड़ेंगे.

शेख मोहम्मद बिन जायद का दौरा बेहद खास है
मोदी ने लिखा कि इस कार्यक्रम में मेरे भाई शेख मोहम्मद बिन जायद की उपस्थिति बहुत खास है. पीएम मोदी ने अपने ट्वीट में कहा कि वाइब्रेंट गुजरात समिट से मेरा बहुत करीबी जुड़ाव है और मुझे यह देखकर खुशी हो रही है कि इस मंच ने कैसे गुजरात के विकास में योगदान दिया है और कई लोगों के लिए अवसर पैदा किए हैं।

10 जनवरी को पीएम मोदी करेंगे उद्घाटन
पीएम मोदी बुधवार, 10 जनवरी को वाइब्रेंट जुजारत शिखर सम्मेलन का उद्घाटन करेंगे। दिसंबर में दुबई में COP28 शिखर सम्मेलन में पीएम मोदी की यात्रा के बाद, वाइब्रेंट गुजरात शिखर सम्मेलन से भारत और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के बीच संबंधों को मजबूत करने की भी उम्मीद है। यूएई के राष्ट्रपति शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान 9 जनवरी को गुजरात शिखर सम्मेलन में मुख्य अतिथि के रूप में भाग लेंगे।

एमओयू का रिकार्ड टूट जायेगा
आगामी वाइब्रेंट गुजरात समिट में पहले साइन हुए सभी एमओयू (मेमोरेंडम ऑफ अंडरस्टैंडिंग) का रिकॉर्ड टूटने वाला है। गुजरात उद्योग विकास निगम के अनुसार, 2019 में आयोजित पिछले वाइब्रेंट गुजरात शिखर सम्मेलन में 28,360 एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए थे। वहीं, इस बार उम्मीद है कि दाखिल किए जाने वाले 90 प्रतिशत से अधिक एमओयू पर हस्ताक्षर किए जा सकते हैं।

इन उद्योगों पर विशेष ध्यान दिया जाएगा
वाइब्रेंट गुजरात समिट में भविष्य की तकनीक से जुड़े उद्योगों को विशेष महत्व दिया जाएगा. इसमें सेमीकंडक्टर, ग्रीन हाइड्रोजन, ई-मोबिलिटी और स्पेस टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में काम करने वाली कंपनियों को प्रोत्साहित किया जाएगा। आगामी शिखर सम्मेलन से पहले लगभग 1,00,000 पंजीकरण प्राप्त हुए हैं। 2019 में यह आंकड़ा 48,000 रजिस्ट्रेशन था. वाइब्रेंट गुजरात ग्लोबल समिट की कल्पना 2003 में तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में की गई थी।

टैग: गुजरात, मोदी, मोदी सरकार, पीएम मोदी