वीआईपी कल्चर से बचें…सीएम योगी का मंत्रियों और विधायकों को सख्त संदेश, फील्ड में जाकर जनता की बात सुनें

लखनऊ. लोकसभा चुनाव संपन्न होने के साथ ही उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राज्य सरकार के मंत्रियों को ‘संवाद, समन्वय और संवेदनशीलता’ का मंत्र देकर एक बार फिर जनता के बीच जाने का निर्देश दिया है। हालांकि मंत्रियों की इस बैठक में दोनों उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य और ब्रजेश पाठक मौजूद नहीं थे। उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य दिल्ली में थे, जबकि ब्रजेश पाठक भी शहर से बाहर थे।

केशव प्रसाद मौर्य ने शनिवार को सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ‘एक्स’ पर एक पोस्ट में कहा, ‘भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) बिहार इकाई के अध्यक्ष एवं बिहार सरकार के माननीय उपमुख्यमंत्री सम्राट चौधरी जी से नई दिल्ली स्थित उत्तर प्रदेश सदन में अनौपचारिक मुलाकात की तथा लोकसभा चुनाव में बिहार में मिली शानदार जीत के लिए हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं दीं।’

इस बीच, संपर्क किये जाने पर उपमुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक ने पीटीआई-भाषा से कहा, ‘‘मैं लखनऊ से बाहर था क्योंकि मुझे पहले से तय कुछ कार्यक्रमों में शामिल होना था।’’ बैठक में मौजूद राज्य सरकार के एक वरिष्ठ मंत्री ने पीटीआई-भाषा को बताया, ‘‘दोनों उपमुख्यमंत्री (केशव प्रसाद मौर्य और ब्रजेश पाठक) अपने पहले से तय कार्यक्रमों के कारण कैबिनेट बैठक में शामिल नहीं हुए।’’ उन्होंने बताया कि बैठक में राज्य के लोक निर्माण मंत्री जितिन प्रसाद भी शामिल हुए।

यहां जारी एक बयान के अनुसार, मुख्यमंत्री योगी ने बैठक में कहा, ‘‘सरकार जनता के लिए है, हमारे लिए जनता का हित सर्वोपरि है, ऐसे में समाज के अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति की समस्याओं, अपेक्षाओं और आवश्यकताओं का समाधान किया जाना चाहिए।’’ योगी ने कहा, ‘‘मंत्रीगण क्षेत्र में जाएं, जनता से संवेदनशीलता के साथ संवाद करें और स्थानीय जनप्रतिनिधियों तथा शासन-प्रशासन से समन्वय बनाकर समस्याओं का समाधान करें।’’

एक बयान के अनुसार, शनिवार को कैबिनेट की विशेष बैठक में मुख्यमंत्री ने सबसे पहले सांसद चुने गए मंत्रियों को बधाई दी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में लगातार तीसरी बार केंद्र में सरकार बनने पर बधाई दी। मुख्यमंत्री ने कहा, “प्रधानमंत्री मोदी के 10 साल के कार्यकाल में जिस तरह उत्तर प्रदेश में विकास को गति मिली है, आने वाले पांच सालों में हम कई नए कीर्तिमान बनाने में सफल होंगे।”

उन्होंने कहा कि सभी माननीय मंत्रीगण केंद्र व राज्य सरकार की उपलब्धियों का व्यापक प्रचार-प्रसार करें, सोशल मीडिया पर अपनी सक्रियता बढ़ाएं तथा डबल इंजन सरकार की नीतियों, निर्णयों और सकारात्मक परिणामों से जनता को अवगत कराएं।मुख्यमंत्री ने इस बात पर जोर दिया कि मंत्रीगण हों या अन्य जनप्रतिनिधि, सभी को ‘वीआईपी’ संस्कृति से बचना होगा।

उन्होंने भावी कार्यक्रमों पर चर्चा करते हुए कहा कि आने वाले दिनों में वृहद पौधरोपण, स्कूल चलो अभियान और संचारी रोग नियंत्रण के कार्यक्रम हैं, इसलिए इनकी सफलता के लिए सभी को मिलकर प्रयास करने होंगे। मुख्यमंत्री ने कहा, “वित्तीय वर्ष 2024-25 की पहली तिमाही समाप्त होने वाली है। यह सुनिश्चित किया जाए कि सभी विभाग वर्तमान बजट में उपलब्ध कराई गई धनराशि का समुचित व्यय करें। आवंटन और व्यय में तेजी आने की उम्मीद है। विभाग स्तर पर व्यय की समीक्षा भी की जाए। संबंधित मंत्री अपने विभागीय स्थिति की समीक्षा करें।”

टैग: भाजपा, योगी आदित्यनाथ