श्रीलंका में भी पाकिस्तानी नागरिकों का अपमान, सुनाई गई 10 साल की जेल!

छवि स्रोत: फ़ाइल
श्रीलंका में पाकिस्तानी नागरिकों को सजा (प्रतीकात्मक तस्वीर)

कोलंबो: एक तरफ पाकिस्तान सरकार की हालत ये है कि उसके पास देश चलाने के लिए पैसे नहीं हैं. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री कभी आईएमएफ से पैसा मांगते हैं तो कभी अरब देशों की ओर देखते नजर आते हैं. इस बीच जनता का बुरा हाल है और लोग आटे से लेकर रोजमर्रा की जरूरी चीजों के लिए तरस रहे हैं. महंगाई चरम पर है और कुल मिलाकर पाकिस्तान में आम लोगों का जीवन मुश्किल हो गया है. अब जिस देश के शासक ऐसे हों उस देश की जनता कैसी होगी इसका अंदाज़ा आप खुद ही लगा सकते हैं. पाकिस्तान के लोग जहां भी जाते हैं अपने ही देश का नाम खराब कर देते हैं, अब ऐसा ही कुछ श्रीलंका में देखने को मिला है.

वाक्य सुनाया गया

दरअसल, श्रीलंका की एक अदालत ने बड़ी मात्रा में मादक पदार्थों की तस्करी के आरोप में गिरफ्तार दस पाकिस्तानी नागरिकों को 10-10 साल जेल की सजा सुनाई है। पुलिस ने गुरुवार को इसकी जानकारी दी. पुलिस ने कहा कि जब मामला 6 मई, 2024 को कोलंबो उच्च न्यायालय के समक्ष उठाया गया, तो आरोपियों ने अपना अपराध कबूल कर लिया और बाद में उन्हें 10 साल जेल की सजा सुनाई गई।

पुलिस ने छापेमारी की थी

पुलिस ने कहा कि 1 जनवरी, 2020 को पुलिस नारकोटिक्स ब्यूरो और श्रीलंकाई नौसेना द्वारा की गई संयुक्त छापेमारी में दस पाकिस्तानी नागरिकों से 581 किलोग्राम नशीले पदार्थ, 34 ग्राम संदिग्ध नशीले पदार्थ और 614 किलोग्राम बर्फ (मेथामफेटामाइन) बरामद किया गया।

सड़कों पर भिखारियों का हुजूम उमड़ पड़ा

यहां याद दिला दें कि पाकिस्तान में ईद के मौके पर कराची में भिखारियों की भारी भीड़ उमड़ी थी. शहर के व्यस्त बाजारों, मुख्य सड़कों, ट्रैफिक सिग्नल, शॉपिंग मॉल और मस्जिदों के बाहर हर जगह लाखों भिखारी देखे गए। उस वक्त कराची में मौजूद भिखारियों की संख्या चार लाख से ज्यादा बताई गई थी. (भाषा)

यह भी पढ़ें:

दुनिया की सबसे बड़ी अदालत में इजराइल के खिलाफ सुनवाई शुरू, जानिए क्या हैं आरोप?

माहिरा खान के साथ पाकिस्तान में भीड़ ने की बदसलूकी, एक्ट्रेस बोलीं- ‘डरी हुई हूं…’

नवीनतम विश्व समाचार