सिंगापुर में कोविड-19 की लहर, कोरोना वायरस वेरिएंट के मामले जून में चरम पर होने की उम्मीद है

सिंगापुर COVID-19 मामले: सिंगापुर में एक बार फिर कोरोना के मामले बढ़ गए हैं. अनुमान है कि जून के मध्य और अंत के बीच सिंगापुर में कोरोना के मामले अपने चरम पर पहुंच सकते हैं। देश के स्वास्थ्य मंत्री ओंग ये कुंग ने कहा, ‘हम अभी भी कोविड लहर के शुरुआती चरण में हैं, लेकिन यह लगातार तेजी से बढ़ रही है।’ स्ट्रेट्स टाइम्स अखबार ने स्वास्थ्य मंत्री के हवाले से जानकारी साझा की है. अखबार ने बताया कि सिंगापुर में कोरोना का मुख्य वैरिएंट FLiRT तेजी से बढ़ रहा है।

सिंगापुर में कोविड मामलों में बढ़ोतरी का कारण इसके नए वैरिएंट FLiRT को माना जा रहा है। क्षेत्रीय समाचार रिपोर्टों के अनुसार, वर्तमान में सिंगापुर में दो-तिहाई से अधिक मामले KP.1 और KP.2 वेरिएंट के हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने 3 मई तक KP.2 वेरिएंट पर नजर रखने को कहा था. WHO ने कहा कि कोरोना का KP 2 और KP 1 वेरिएंट FLiRT की तुलना में कम संक्रामक है, ये कम तेजी से फैलता है.

कितने मरीज अस्पताल में भर्ती हो रहे हैं?
सिंगापुर स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, सिंगापुर में 5 से 11 मई के बीच कोविड-19 मामलों की संख्या 25,900 थी, जबकि इससे पहले सप्ताह में यह 13,700 थी। अनुमान के मुताबिक, एक हफ्ते पहले हर दिन 181 कोविड-19 संक्रमित मरीज अस्पताल में भर्ती हो रहे थे, जिनकी संख्या बढ़कर 250 हो गई है.

देश में कोई लॉकडाउन नहीं होगा
स्वास्थ्य मंत्री ओंग ये कुंग ने कहा कि फिलहाल सरकार अभी किसी भी तरह का लॉकडाउन लगाने के मूड में नहीं है. क्योंकि सिंगापुर में कोविड-19 को एक स्थानीय बीमारी माना जाता है। अगर कोविड के मामले और बढ़े तो अतिरिक्त कदम उठाए जाएंगे. मंत्री ने कहा कि सिंगापुर में लोगों की आवाजाही अधिक होती है, इसलिए यहां अन्य देशों की तुलना में कोविड-19 का संक्रमण तेजी से फैलता है. स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि कोविड-19 देश के लिए एक ऐसी बीमारी बन गई है जिसके साथ हमें जीना होगा. सिंगापुर में हर साल कोरोना की एक या दो लहर आ सकती हैं.

भारत में भी FLiRT वेरिएंट के मामले देखे गए थे
अगर भारत की बात करें तो भारत में फिलहाल FLiRT के 91 मामले सामने आए हैं। फिलहाल भारत में इस वेरिएंट की कोई अलग गंभीरता या लक्षण दिखाई नहीं दे रहे हैं। महाराष्ट्र के कई इलाकों में FLiRT के मामले पाए गए हैं।

यह भी पढ़ें: इब्राहिम रईसी की मौत: इब्राहिम रईसी की हत्या के पीछे कौन है? लेजर हथियार से लेकर मोसाद की साजिश तक क्या चल रही है चर्चा?