सिंगापुर में जहरीली गैस के कारण भारतीय मूल के व्यक्ति की मौत

सिंगापुर गैस मामला: सिंगापुर में जहरीली गैस से मरने वाले भारतीय मूल के व्यक्ति का शव अंतिम संस्कार के लिए भारत में उसके गृहनगर लाया गया है। श्रीनिवासन शिवरामन नामक 40 वर्षीय व्यक्ति ‘सुपरसोनिक मेंटेनेंस सर्विसेज’ में सफाई संचालन प्रबंधक के रूप में काम कर रहा था। 23 मई को टैंक की सफाई करते समय जहरीली गैस के संपर्क में आने से व्यक्ति की मौत हो गई थी। यह काम राष्ट्रीय जल एजेंसी पीयूबी के ‘चोआ चू कांग वाटरवर्क्स’ में चल रहा था। शिवरामन और दो अन्य मलेशियाई कर्मचारी घटनास्थल पर बेहोश पाए गए, जिसके बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया जहां भारतीय व्यक्ति की मौत हो गई।

पीयूबी ने कहा कि शुरुआती जांच में पता चला है कि श्रमिक हाइड्रोजन सल्फाइड गैस के संपर्क में आए थे। यह गैस पानी को शुद्ध करने के दौरान निकलती है। मलेशियाई श्रमिकों का अभी भी इलाज चल रहा है। ‘द स्ट्रेट्स टाइम्स’ और तमिल अखबार ‘तमिल मुरासु’ के मुताबिक, शिवरामन का शव 26 मई को ही उनके परिवार और दोस्तों को सौंप दिया गया था। कागजी कार्रवाई के बाद 28 मई को शव को भारत भेज दिया गया। जब यह हादसा हुआ, तब शिवरामन का परिवार गर्मियों की छुट्टियों में सिंगापुर आया हुआ था। शिवरामन तमिलनाडु राज्य के तंजावुर जिले के कंबनाथम गांव के रहने वाले थे। 26 मई को परिवार, दोस्त और सहकर्मियों समेत करीब 50 लोगों ने शिवरामन को अंतिम श्रद्धांजलि दी।

सिंगापुर में पहले भी एक भारतीय की मौत हो चुकी है
सिंगापुर में पहले भी गैस लीक के मामले सामने आते रहे हैं, हाल ही में सिंगापुर रिफाइनिंग कंपनी (एसआरसी) के एक वरिष्ठ तकनीशियन को चार महीने जेल की सजा सुनाई गई है. आरोप है कि इस तकनीशियन की लापरवाही के कारण साल 2020 में गैस लीक हुई थी, कोर्ट ने इस लापरवाही के लिए तकनीशियन को ही जिम्मेदार माना है. इस हादसे में एक भारतीय की भी मौत हो गई. द स्ट्रेट्स टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक आरोपी लेक चिंग ह्वा ने अपनी लापरवाही स्वीकार कर ली है. उसने बताया कि जुरोंग द्वीप पर तेल रिफाइनरी प्लांट में उसने अपने कर्तव्यों में लापरवाही बरती. गैस लीक से जुड़ा यह हादसा 17 सितंबर 2020 को हुआ था. इसमें 30 वर्षीय भारतीय पलानीवेल पांडिदुरई की मौत हो गई.

यह भी पढ़ें: अमेरिका का सबसे खतरनाक लड़ाकू विमान एफ-35 न्यू मैक्सिको में कैसे दुर्घटनाग्रस्त हुआ?