सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर इमरान खान की प्रतिक्रिया, अनुच्छेद 370 को बताया गैरकानूनी, कश्मीर मुद्दे को और जटिल बनाएगा

अनुच्छेद 370 पर फैसला: अनुच्छेद 370 पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पाकिस्तान परेशान है. पाकिस्तान के कार्यवाहक विदेश मंत्री की प्रतिक्रिया के बाद जेल में बंद पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान ने प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने कहा है कि भारत के सुप्रीम कोर्ट के अनुच्छेद 370 को हटाने के फैसले से कश्मीर मुद्दा और जटिल हो जाएगा. गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले संविधान के अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को खत्म करने के केंद्र सरकार के अगस्त 2019 के फैसले को सर्वसम्मति से सोमवार को बरकरार रखा.

रावलपिंडी की अदियाला जेल में बंद इमरान खान ने एक संदेश में कहा कि भारतीय शीर्ष अदालत का फैसला यूएनएससी प्रस्तावों का घोर उल्लंघन है। उनकी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी ने एक्स (पूर्व में ट्विटर) पर एक पोस्ट में यह जानकारी दी. इसमें खान के हवाले से कहा गया है कि भारतीय शीर्ष अदालत का विवादास्पद और अवैध फैसला दशकों से चले आ रहे संघर्ष को सुलझाने में मदद करने के बजाय कश्मीर मुद्दे को और अधिक जटिल बना देगा।

कश्मीर मुद्दा ही विवाद की मुख्य जड़ है

खान ने आगे कहा कि उनकी पार्टी कश्मीरी लोगों को पूर्ण राजनयिक, नैतिक और राजनीतिक समर्थन प्रदान करना जारी रखेगी। उन्होंने अपनी बात दोहराते हुए कहा कि कश्मीर मुद्दा पाकिस्तान और भारत के बीच विवाद की मुख्य जड़ है. खान ने आगे कहा कि वह राष्ट्रीय हितों को पहले रखकर भारत के साथ अच्छे संबंध स्थापित करना चाहते हैं। हालाँकि, 5 अगस्त 2019 के बाद यह संभव नहीं था क्योंकि हम कश्मीरी लोगों की आकांक्षाओं से समझौता नहीं करना चाहते थे।

विदेश मंत्री बोले- कोई कानूनी महत्व नहीं

इससे पहले पाकिस्तान के कार्यवाहक विदेश मंत्री जलील अब्बास जिलानी ने कहा था कि इसका कोई ‘कानूनी महत्व’ नहीं है. इस दौरान जिलानी ने भरोसा दिलाया कि इस फैसले के बाद भी हम यह सुनिश्चित करने की कोशिश करेंगे कि पिछले दो-तीन साल से एलओसी पर जो शांति का माहौल बना हुआ है, वह आगे भी बना रहे.

यह भी पढ़ें: क्या है ‘बांस डिप्लोमेसी’ जिस पर वियतनाम चल रहा है? पहले बाइडेन और अब जिनपिंग का दौरा