सुशील मोदी को हुआ था ईसाई लड़की से प्यार, शादी ने तोड़ी धर्म की दीवार, दिलचस्प है कहानी

नई दिल्ली। बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री और भारतीय जनता पार्टी के नेता सुशील कुमार मोदी का 72 साल की उम्र में निधन हो गया है। मोदी ने बीएससी की पढ़ाई की थी। वर्ष 1973 में पटना साइंस कॉलेज से वनस्पति विज्ञान में स्नातक की उपाधि प्राप्त की। इसी दौरान उन्हें मुंबई में अपनी सहपाठी केरल निवासी जेसी जॉर्ज से प्यार हो गया और दोनों ने शादी करने का फैसला कर लिया. मालूम हो कि मोदी ने बीएन कॉलेज से बीएएससी (ऑनर्स), बॉटनी में डिग्री हासिल की है।

सुशील मोदी ने 13 अगस्त 1986 को मुंबई की ईसाई केरलवासी जेसी जॉर्ज से शादी की। वे दोनों अपने शोध के दौरान सहपाठी थे। पहली बार सुशील मोदी और जेसी जॉर्ज मोदी ने एक-दूसरे को चलती ट्रेन में देखा था. कुछ ही समय में दोनों एक दूसरे को पसंद करने लगे और बातचीत बढ़ती गई. दोनों ने एक-दूसरे के साथ जीने-मरने की कसमें खाईं और आखिरकार 13 अगस्त 1986 को शादी कर ली। वर्तमान में जेसी जॉर्ज एक कॉलेज में प्रोफेसर हैं और उनके दो बेटे हैं, उत्कर्ष तथागत और अक्षय अमृतांशु।

सुशील कुमार का पहला बेटा ताथगेट बेंगलुरु से इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करने के बाद वहीं एक मल्टीनेशनल कंपनी में काम करता है। उन्होंने 2017 में कोलकाता की एक चार्टर्ड अकाउंटेंट लड़की से शादी की। सुशील मोदी के दूसरे बेटे अक्षय अमृतांशु ने नेशनल लॉ इंस्टीट्यूट यूनिवर्सिटी, भोपाल से कानून की डिग्री हासिल की है। वह कानून के क्षेत्र में ही काम करते हैं।

सुशील मोदी की माता का नाम रत्ना देवी और पिता का नाम मोती लाल मोदी है। उनके पिता उस समय के जाने-माने सामाजिक कार्यकर्ता थे। उन्हीं की वजह से सुशील मोदी की राजनीति में दिलचस्पी बढ़ी. उनकी स्कूली शिक्षा सेंट माइकल स्कूल, पटना में हुई। इसके बाद उन्होंने बी.एससी. बीएन कॉलेज, पटना की डिग्री. बाद में उन्होंने एम.एससी. किया। का कोर्स छोड़ दिया और जय प्रकाश नारायण द्वारा चलाये गये आन्दोलन में कूद पड़े। वहीं से उनके राजनीतिक करियर की शुरुआत हुई.

पहले प्रकाशित: 13 मई, 2024, 23:23 IST