सूख गया दुनिया का चौथा सबसे बड़ा समुद्र, जहाजों को नहीं मिला आगे का रास्ता, मर गईं मछलियां!

बिहार में गर्मी का असर अभी से दिखने लगा है. वहां की 24 नदियों में पानी लगभग नहीं के बराबर है और 12 नदियां पूरी तरह सूख चुकी हैं. लेकिन ये कोई नया मामला नहीं है. इससे पहले ग्लोबल वार्मिंग के कारण स्लिम्स नदी सूख गई थी. अरल सागर भी ऐसी ही त्रासदी का शिकार हुआ। आपको जानकर हैरानी होगी लेकिन हम आपको बता दें कि अरल सागर कभी दुनिया का चौथा सबसे बड़ा समुद्र था, जो कजाकिस्तान और उत्तरी उज्बेकिस्तान के बीच मौजूद था। लेकिन यह समुद्र लगभग 90 प्रतिशत तक सूख चुका है। एक समय यह 68,000 किमी क्षेत्र में फैला हुआ था। कई जहाज़ इसमें फँस गये और उन्हें आगे बढ़ने का रास्ता भी नहीं मिल सका। 2017 में नासा ने भी इस महासागर के सूखने और सिकुड़ने की पुष्टि की थी.

अरल सागर को द्वीपों का सागर कहा जाता था, जिसमें 1534 द्वीप हुआ करते थे। लेकिन पिछले 50 सालों में इसका 90 फीसदी से ज्यादा हिस्सा सूख चुका है. इसका सूखना दुनिया की सबसे बड़ी पर्यावरणीय त्रासदियों में से एक माना जाता है। नासा ने भी इस समुद्र के सूखने की पुष्टि की है. विशेषज्ञों के अनुसार, इस महासागर के सूखने की प्रक्रिया 1960 से शुरू हुई। 1997 तक अरल सागर चार झीलों में विभाजित हो गया, जिन्हें उत्तरी अरल सागर, पूर्वी बेसिन, पश्चिमी बेसिन और सबसे बड़े हिस्से को दक्षिणी अरल सागर का नाम दिया गया। इसके बाद 2009 तक अरल सागर का दक्षिण-पूर्वी भाग पूरी तरह सूख गया और दक्षिण-पश्चिमी भाग एक पतली पट्टी में तब्दील हो गया।

चौथे सबसे बड़े समुद्र के सूखने से सबसे ज्यादा नुकसान मछली पकड़ने के उद्योग को हुआ, जो पूरी तरह से बर्बाद हो गया। इससे एक ओर बेरोजगारी बढ़ी तो दूसरी ओर आर्थिक नुकसान भी हुआ। इतना ही नहीं, इस महासागर के सूखने से प्रदूषण भी बढ़ गया और लोगों को स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का भी सामना करना पड़ा। रिपोर्ट्स के मुताबिक, इसके सूखने की शुरुआत सोवियत संघ की एक परियोजना के कारण हुई, जब 1960 में एक सिंचाई परियोजना के लिए नदियों का प्रवाह मोड़ दिया गया। हालांकि, इसके बाद समुद्र को सूखने से बचाने के लिए कजाकिस्तान ने बांध बनाना शुरू कर दिया। जो 2005 में पूरा हुआ। इसके बाद 2003 की तुलना में 2008 में समुद्र का जलस्तर 12 मीटर बढ़ गया। हालांकि, तमाम कोशिशों के बावजूद सागर की हालत में सुधार नहीं हो सका।

टैग: अजब भी ग़ज़ब भी, खबर आ रही है, हे भगवान, चौंकाने वाली खबर, अजीब खबर