सेना की संवेदनशील तस्वीरें लीक होने से डर रहा है चीन, सैन्य प्रशंसकों को दी तस्वीरें पोस्ट करने से रोकने की चेतावनी

चीन: चीन ने अपने देशवासियों को संवेदनशील सैन्य उपकरणों की तस्वीरें ऑनलाइन साझा करने से बचने की सलाह दी है। चीन ने चेतावनी दी है कि सैन्य उपकरणों की तस्वीरें ऑनलाइन पोस्ट करने वाले लोग राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरे में डाल सकते हैं। सीएनएन की रिपोर्ट के मुताबिक, यह चेतावनी चीन की काउंटर-इंटेलिजेंस एजेंसी ने WeChat पर पोस्ट की है।

साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट की रिपोर्ट के मुताबिक, राज्य सुरक्षा मंत्रालय ने शनिवार (23 दिसंबर) को अपने वीचैट अकाउंट पर कहा कि संवेदनशील सैन्य उपकरणों की तस्वीर खींचने वाले किसी भी व्यक्ति को जेल की सजा हो सकती है। मंत्रालय ने आगे कहा, ‘बिना अनुमति के संवेदनशील सैन्य उपकरणों की तस्वीरें खींचना एक ऐसा कृत्य है जो राष्ट्रीय सुरक्षा को गंभीर रूप से खतरे में डालता है।’

विदेशी ताकतें फायदा उठा सकती हैं

राज्य सुरक्षा मंत्रालय ने कहा है कि ऐसी तस्वीरें देश की संवेदनशील जानकारी को उजागर कर सकती हैं, जिसका फायदा शत्रु विदेशी ताकतें उठा सकती हैं। मंत्रालय ने कहा कि हाल के वर्षों में लोगों द्वारा सैन्य हवाई अड्डों, बंदरगाहों और सैन्य उपकरणों की गुप्त रूप से तस्वीरें लेने के लिए टेलीफोटो लेंस और ड्रोन जैसे पेशेवर उपकरणों का उपयोग करने के मामले सामने आए हैं। ऐसे में सरकार की ओर से ऐसे लोगों को दी गई ये आखिरी चेतावनी है.

ऐसे लोगों को पहले भी सजा मिल चुकी है

इससे पहले साल 2021 में ऐसे ही एक शख्स को गुप्त तस्वीरें लेने के आरोप में एक साल जेल की सजा सुनाई गई थी. उसी वर्ष, झेजियांग प्रांत के जियाक्सिंग में एक व्यक्ति को संवेदनशील सैन्य तस्वीरें लीक करने के लिए 14 महीने जेल की सजा सुनाई गई थी।

सात साल की जेल हो सकती है

मंत्रालय ने चेतावनी दी कि राज्य के रहस्यों वाले दस्तावेज़, डेटा, सामग्री और वस्तुओं को अवैध रूप से प्राप्त करने या रखने वाले व्यक्तियों को 10 दिनों तक की हिरासत का सामना करना पड़ सकता है। वहीं, चोरी, जासूसी या रिश्वतखोरी के जरिए बार-बार राज्य के रहस्य हासिल करने वाले अपराधियों को सात साल तक की जेल हो सकती है।

यह भी पढ़ें: हूथी हमले पर अमेरिका: लाल सागर में युद्ध! अमेरिका ने हौथी विद्रोहियों के हमले को नाकाम किया, दर्जनों ड्रोन और मिसाइलों को मार गिराया