हज यात्रा 2024 नियम लागू, मक्का जाने वाले यात्रियों को अथॉरिटी से लेनी होगी इजाजत

हज यात्रा 2024: सऊदी अरब प्रशासन ने हज के लिए नियम लागू कर दिए हैं. नए नियम के मुताबिक, सऊदी अरब से मक्का जाने वाले लोगों को अब संबंधित अथॉरिटी से इजाजत लेनी होगी. सार्वजनिक सुरक्षा महानिदेशक के अनुसार, ये नियम 4 मई से लागू हो गए हैं। अब मक्का में प्रवेश के इच्छुक किसी भी निवासी को परमिट की आवश्यकता होगी। सऊदी प्रेस एजेंसी के मुताबिक, नए नियमों का उद्देश्य हज प्रक्रिया को सरल बनाना और तीर्थयात्रियों की सुरक्षा सुनिश्चित करना है। मक्का में रहने वालों के पास आईडी कार्ड होना चाहिए, और वहां के पवित्र स्थानों में काम करने वालों के पास वैध पास होना चाहिए। सुरक्षाकर्मी उन लोगों को प्रवेश की अनुमति नहीं देंगे जिनके पास वैध परमिट नहीं है। बिना परमिट वालों को चौकियों से लौटा दिया जाएगा।

तीर्थयात्रियों के लिए कार्ड लॉन्च किया गया
वहीं, सऊदी हज मंत्रालय ने तीर्थयात्रियों के लिए एक कार्ड लॉन्च किया है। सऊदी हज मंत्री तौफीक अल रबिया ने इंडोनेशियाई हज मिशन के लिए पहला बैच पेश करते हुए इंडोनेशिया में नुसुक कार्ड लॉन्च किया। हर हाजी को नुसुक कार्ड दिया जाएगा, इसका डिजिटल वर्जन भी होगा. कार्ड में हर तीर्थयात्री का डेटा होगा। यह कार्ड यात्रियों को मक्का शहर और उसके आसपास पवित्र स्थानों की यात्रा के दौरान अपने साथ रखना होगा। इस कार्ड के जरिए अधिकारी हज यात्रियों की पहचान कर सकेंगे और किसी भी फर्जी तीर्थयात्री के प्रवेश को रोका जा सकेगा.

नुसुक कार्ड कैसे प्राप्त करें?
वीजा जारी होने के बाद नुसुक कार्ड विदेशी तीर्थयात्रियों को संबंधित हज कार्यालयों से उपलब्ध होगा। हज मंत्रालय नुसुक कार्ड को एक आधिकारिक मुद्रित कार्ड कहता है, जिसका उद्देश्य पवित्र स्थानों पर वैध तीर्थयात्रियों की पहचान करना है। दरअसल, सऊदी सरकार ने हज यात्रा के लिए आने वाले मुसलमानों से अपील की थी कि वे फर्जी वेबसाइटों से बचें और कानूनी प्रक्रिया के तहत ही आएं. मंत्रालय ने कहा कि सभी तीर्थयात्रियों को नुसुक प्लेटफॉर्म से हज परमिट प्राप्त करना होगा। एक बयान में कहा गया है कि बिना आधिकारिक परमिट के हज करना अपराध है.