हरियाणा की एक यूनिवर्सिटी में 500 से ज्यादा छात्राओं ने प्रोफेसर पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाते हुए सीएम मनोहर लाल खट्टर और पीएम मोदी को पत्र लिखा।

हरियाणा यूनिवर्सिटी में यौन उत्पीड़न:हरियाणा में एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है. यहां की एक यूनिवर्सिटी की 500 से ज्यादा छात्राओं ने यौन उत्पीड़न की शिकायत की है।

हरियाणा के सिरसा स्थित चौधरी देवीलाल यूनिवर्सिटी की करीब 500 छात्राओं ने एक प्रोफेसर पर यौन शोषण का आरोप लगाया है. इसे लेकर छात्राओं ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को पत्र लिखा है.

रिटायर जज से जांच की मांग
छात्रों ने आरोपी प्रोफेसर को निलंबित करने और हाई कोर्ट के सेवानिवृत्त जज के नेतृत्व में जांच की मांग की है. पत्र की प्रतियां कुलपति अजमेर सिंह मलिक, राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय, राज्य के गृह मंत्री अनिल विज और राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा और अन्य को भी भेजी गई हैं। हालांकि, इस संबंध में सरकार की ओर से अभी तक कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है.

लड़कियों को बाथरूम में ले जाता था प्रोफेसर और…
समाचार एजेंसी आईएएनएस की रिपोर्ट के मुताबिक, पत्र में प्रोफेसर पर ‘गंदी और अश्लील हरकतें’ करने का आरोप लगाया गया है. उन पर लड़कियों को अपने ऑफिस में बुलाने, उन्हें बाथरूम में ले जाने, उनके प्राइवेट पार्ट्स को छूने और अश्लील हरकतें करने का आरोप है। लड़कियों ने कहा कि जब उन्होंने विरोध किया तो उन्हें ‘बहुत बुरे’ परिणाम भुगतने की धमकी दी गई. पत्र में दावा किया गया है कि ऐसा कई महीनों से चल रहा है. विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार राजेश कुमार बंसल ने गुमनाम पत्र मिलने की पुष्टि की है।

सरकार विपक्ष के निशाने पर आ गई
यूनिवर्सिटी में ऐसी घटना सामने आने के बाद हरियाणा की मनोहर लाल खट्टर सरकार विपक्ष के निशाने पर आ गई है. कांग्रेस के राज्यसभा सांसद दीपेंद्र सिंह हुड्डा ने ‘एक्स’ (पहले ट्विटर पर) पोस्ट कर सरकार को घेरा है। उन्होंने लिखा कि सिरसा की चौधरी देवीलाल यूनिवर्सिटी की 500 छात्राओं द्वारा छेड़छाड़ और शोषण के गंभीर आरोपों की खबर चिंताजनक है.

कांग्रेस नेता दीपेंद्र सिंह हुड्डा ने लिखा कि दुखद बात यह है कि छात्राओं को न्याय के लिए राज्यपाल से लेकर प्रधानमंत्री तक को पत्र लिखना पड़ रहा है. ऐसा लगता है कि महिला शोषण के आरोपी मंत्री संदीप सिंह को बचाने जैसे मामलों में प्रदेश की बीजेपी-जेजेपी सरकार के पुराने रिकॉर्ड के चलते छात्राओं को इस सरकार पर कोई भरोसा नहीं रह गया है. मेरी सरकार से अपील है कि वह छात्राओं के आरोपों की उच्च स्तरीय निष्पक्ष जांच कराकर उन्हें न्याय दिलाए।

ये भी पढ़ें:हरियाणा पॉलिटिक्स: क्या हरियाणा में बदलने वाला है सियासी समीकरण? बीजेपी के बाद अब जेजेपी ने दिए ये संकेत