हिमाचल में लोकसभा चुनाव के लिए 20 हजार पुलिस-होमगार्ड जवान तैनात, 67 कंपनियां मांगी गईं, सभी 109 अंतरराज्यीय सीमाएं सील

शिमला. हिमाचल प्रदेश में लोकसभा चुनाव को लेकर हिमाचल पुलिस ने तैयारियां शुरू कर दी हैं. लोकसभा चुनाव के दौरान हिमाचल पुलिस के 12 हजार और होम गार्ड के 8 हजार जवान कमान संभालेंगे. इसके अलावा हिमाचल पुलिस ने सीएपीएफ की 67 कंपनियों की भी मांग की है। राज्य की सभी 109 अंतरराज्यीय सीमाओं को सील करने के आदेश दिए गए हैं.

कार्यवाहक पुलिस महानिदेशक एसआरओझा ने न्यूज18 से एक्सक्लूसिव बातचीत में यह जानकारी दी.

1989 बैच के आईपीएस अधिकारी संजीव रंजन ओझा ने कहा कि चुनाव के दौरान अवैध शराब, नशीली दवाओं और पैसे के लेनदेन पर विशेष नजर रखी जाएगी. हवाई अड्डों, बस अड्डों और रेलवे स्टेशनों पर विशेष निगरानी होगी. खुफिया तंत्र भी पूरी तरह सक्रिय है. हर संसदीय क्षेत्र में तीन उड़नदस्ते और तीन एसएसटी तैनात किये जायेंगे. सेक्टर भी बनाए गए हैं और हर सेक्टर में एक वरिष्ठ अधिकारी को प्रभारी बनाया गया है. उन्होंने कहा कि पुलिस चुनाव आयोग के निर्देशानुसार काम कर रही है और इसके लिए एक योजना भी तैयार की गयी है. साथ ही सुरक्षा योजना भी बनायी गयी है. सभी 109 अंतरराज्यीय सीमाओं पर चेक पोस्ट लगाए गए हैं और सीसीटीवी के जरिए भी निगरानी की जा रही है और चौकसी भी बढ़ा दी गई है.

अवैध शराब के साथ-साथ नशीली दवाओं और नकदी की आवाजाही पर भी नजर रखी जा रही है

डीजीपी ने कहा कि सभी एसपी और अन्य संबंधित अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिये गये हैं. बॉर्डर स्टेट एसपी के साथ भी बैठक हो चुकी है और चुनाव आयोग के साथ भी नोडल अधिकारियों की बैठक हो चुकी है. उन्होंने कहा कि नशीली दवाओं और नकदी की आवाजाही के साथ-साथ अवैध शराब के कारोबार पर भी कार्रवाई की जा रही है और अधिक जब्ती के आदेश दिए गए हैं। नशे से जुड़े मामलों में शिमला, कुल्लू, चंबा, सिरमौर और मंडी जिलों में अभियान तेज कर दिया गया है। एसआर ओझा ने कहा कि चुनाव आयोग ने चुनाव संबंधी शिकायतों के लिए 1950 नंबर और सी-विजिल ऐप भी जारी किया है. बना भी लिया है. इस नंबर या ऐप पर कोई भी व्यक्ति किसी भी समय शिकायत दर्ज करा सकता है।

मतदाताओं से अपील

हिमाचल के कार्यवाहक डीजीपी सरोज झा ने भी मतदाताओं से अपील की. ओझा ने कहा कि दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र के इस पर्व में सभी को अपनी भागीदारी सुनिश्चित करनी चाहिए और निष्पक्ष एवं स्वतंत्र चुनाव कराने में सहयोग करना चाहिए. उन्होंने कहा कि किसी भी अनियमितता की सूचना तुरंत पुलिस या अन्य सरकारी एजेंसियों को दी जानी चाहिए। ओझा ने युवा मतदाताओं से खास अपील की. उन्होंने कहा कि युवाओं को यह समझना चाहिए कि आपके हाथों में बहुत ताकत है और इस ताकत का सही उपयोग करें और अधिक से अधिक संख्या में मतदान करें।