हेलीकॉप्टर दुर्घटना में हुसैन अमीर-अब्दुल्लाहियन की मृत्यु के बाद अली बघेरी कानी ईरान के कार्यवाहक विदेश मंत्री बने

ईरान हेलीकाप्टर दुर्घटना: ईरान के विदेश मंत्री होसैन अमीर अब्दुल्लाहियन की हेलीकॉप्टर दुर्घटना में मृत्यु के बाद अली बघेरी कानी को ईरान का कार्यवाहक विदेश मंत्री नियुक्त किया गया है। ईरान सरकार की कैबिनेट ने सोमवार को यह फैसला लिया. अली बघेरी कानी पहले उप विदेश मंत्री थे, होसैन अमीर की मृत्यु के बाद उन्हें कार्यवाहक विदेश मंत्री नियुक्त किया गया है।

अली बघेरी कानी को ईरान सरकार में बेहद सक्रिय नेताओं में गिना जाता है. रॉयटर्स ने इस्लामिक रिपब्लिक न्यूज एजेंसी के हवाले से यह जानकारी साझा की है. रॉयटर्स ने बताया कि अली बघेरी कानी को ईरान के मुख्य परमाणु वार्ताकार के रूप में भी जाना जाता है। अली बघेरी कानी 4 अगस्त, 2022 को ऑस्ट्रिया के विएना के लिए रवाना हुए। कहा जाता है कि वहां बंद कमरे में परमाणु वार्ता हुई।

अजरबैजान से लौटते वक्त हुआ हादसा
दरअसल, रविवार को अजरबैजान में एक बांध का उद्घाटन करने के बाद ईरानी राष्ट्रपति इब्राहिम रायसी, विदेश मंत्री होसैन अमीर अब्दुल्लाहियां और 8 अन्य लोग राजधानी तेहरान लौट रहे थे। वापसी के दौरान मौसम काफी खराब हो गया, जिसके कारण राष्ट्रपति का हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त हो गया. उसी हेलीकॉप्टर में ईरान के विदेश मंत्री हुसैन अमीर अब्दुल्लाहियां भी सवार थे. रविवार को शुरू हुई तलाश के बाद सोमवार को घटना स्थल का खुलासा हुआ। जांच के दौरान हेलीकॉप्टर में सवार सभी लोग मृत पाए गए. बताया जाता है कि राष्ट्रपति के काफिले में कुल तीन हेलीकॉप्टर थे, लेकिन जिस हेलीकॉप्टर में राष्ट्रपति और विदेश मंत्री यात्रा कर रहे थे वह दुर्घटनाग्रस्त हो गया.

ईरान में अगले 50 दिनों के अंदर राष्ट्रपति चुनाव होंगे
घटना के बाद दुनिया भर से तरह-तरह के दावे किए जा रहे हैं. कुछ लोगों का आरोप है कि हेलीकॉप्टर क्रैश नहीं हुआ है बल्कि उसे क्रैश कराया गया है. फिलहाल इसका खुलासा जांच पूरी होने के बाद ही हो पाएगा। इस बीच ईरान में राष्ट्रपति इब्राहिम की मौत के बाद उपराष्ट्रपति मोहम्मद मोखबर को देश का अंतरिम राष्ट्रपति नियुक्त किया गया है. अगले 50 दिनों के अंदर चुनाव के जरिए देश में नए राष्ट्रपति की नियुक्ति कर दी जाएगी.

यह भी पढ़ें: ईरानी राष्ट्रपति इब्राहिम रायसी की मौत की साजिश? चीनी विशेषज्ञों को लगता है कि इसमें इन देशों का हाथ हो सकता है