CAA को लेकर बंगाल में क्यों है हंगामा? 7 दिन में CAA लागू करने के दावे पर भड़कीं ममता बनर्जी!

कोलकाता. भाजपा के लोकसभा सदस्य और केंद्रीय राज्य मंत्री शांतनु ठाकुर के इस दावे के बाद कि नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) एक सप्ताह के भीतर राष्ट्रीय स्तर पर लागू हो जाएगा, पश्चिम बंगाल में राजनीतिक उथल-पुथल मच गई है।

सोमवार को दक्षिण 24 परगना जिले में भाजपा कार्यकर्ताओं के एक बूथ-सम्मेलन को संबोधित करते हुए, मंत्री ने कहा, “मैं राष्ट्रीय स्तर पर सीएए के कार्यान्वयन की गारंटी दे सकता हूं। इसे एक हफ्ते के अंदर पश्चिम बंगाल समेत भारत के सभी राज्यों में लागू कर दिया जाएगा. वो तो आप खुद ही देख लेंगे. मैं इस मंच से यह गारंटी दे रहा हूं।

टिप्पणी पर प्रतिक्रिया देते हुए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि बीजेपी हमेशा चुनाव से पहले भी सीएए का मुद्दा उठाती है. मुख्यमंत्री ने कहा, ”यह चुनाव से पहले धार्मिक भावनाओं को भड़काने का एक जानबूझकर किया गया राजनीतिक प्रयास है। जब हर कोई नागरिक है तो सीएए मुद्दे को इतना महत्व देने का क्या मतलब है?”

राज्य की महिला एवं बाल विकास तथा समाज कल्याण विभाग मंत्री डॉ. शशि पांजा ने कहा कि पश्चिम बंगाल में सीएए की कोई जरूरत नहीं है, यहां सभी लोग शांति से रह रहे हैं. पांजा ने कहा, ”बंगाल के जिन निवासियों को सीएए के दायरे में लाने का प्रस्ताव है, उन्हें पहले से ही राशन मिल रहा है। वे बहुत शांति में हैं. मुख्यमंत्री ने उन्हें यह भी आश्वासन दिया है कि पश्चिम बंगाल में कोई भी सीएए लागू नहीं किया जाएगा।

टैग: बीजेपी, सी.ए.ए, ममता बनर्जी, टीएमसी, पश्चिम बंगाल