Earthquake Today: भूकंप का दोहरा हमला! सुबह-सुबह तेज झटकों से हिले महाराष्ट्र-अरुणाचल प्रदेश, जानिए क्या रही तीव्रता?

अरुणाचल प्रदेश में भूकंप: महाराष्ट्र और अरुणाचल प्रदेश गुरुवार (21 मार्च) सुबह भूकंप से हिल गए। राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र ने कहा है कि देश के पश्चिमी राज्य महाराष्ट्र में आए भूकंप की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 4.5 मापी गई, जबकि उत्तर-पूर्व में अरुणाचल में आए भूकंप की तीव्रता 3.7 थी. सुबह-सुबह आए भूकंप से अभी तक किसी जान-माल के नुकसान की खबर नहीं है.

राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र के मुताबिक, भूकंप का केंद्र महाराष्ट्र के हिंगोली में 10 किमी की गहराई पर था. भूकंप के झटके सुबह 6.08 बजे महसूस किए गए. इसकी तीव्रता रिक्टर स्केल पर 4.5 मापी गई. 4 से 4.9 तीव्रता वाले भूकंप को हल्के भूकंप के रूप में परिभाषित किया गया है। ऐसे में महाराष्ट्र में आया भूकंप हल्की तीव्रता का था, लेकिन इससे लोगों के मन में डर जरूर पैदा हो गया. भूकंप के झटके महसूस होने के बाद कुछ लोग घर से बाहर निकल आये.

दो घंटे में दो भूकंप से हिला अरुणाचल प्रदेश

भूकंप विज्ञान केंद्र के मुताबिक, भूकंप का पहला झटका अरुणाचल प्रदेश में आया। देश के उत्तर-पूर्वी राज्य में कुछ घंटों के अंतराल पर दो भूकंप महसूस किए गए। भूकंप विज्ञान केंद्र ने बताया कि पहला झटका गुरुवार सुबह 1.49 बजे दर्ज किया गया. राज्य के पश्चिमी कामेंग में लोगों ने भूकंप के झटके महसूस किये. इसका केंद्र 10 किमी की गहराई पर था. भूकंप की तीव्रता रिक्टर स्केल पर 3.7 मापी गई.

वहीं, दो घंटे बाद अरुणाचल प्रदेश एक बार फिर भूकंप के झटकों से हिल गया। राज्य में सुबह 3.40 बजे भूकंप की सूचना मिली. इस भूकंप की तीव्रता 3.4 मापी गई. भूकंप का केंद्र पश्चिमी कामेंग था. इस भूकंप के केंद्र की गहराई 5 किमी थी. जिन भूकंपों की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 3 से 3.9 के बीच होती है उन्हें छोटे भूकंप कहा जाता है। यही कारण है कि अभी तक जान-माल के नुकसान की कोई खबर नहीं है.

भूकंप कैसे आता है?

पृथ्वी के अंदर सात टेक्टोनिक प्लेटें हैं, जो लगातार घूमती रहती हैं, जब ये प्लेटें आपस में टकराती हैं, रगड़ती हैं, एक-दूसरे के ऊपर चढ़ती हैं या उनसे दूर जाती हैं, तो जमीन हिलने लगती है। इसे भूकंप कहते हैं. भूकंप की तीव्रता मापने के लिए रिक्टर स्केल का उपयोग किया जाता है। यह पैमाना 1 से 9 तक होता है, जिसमें 1 सबसे कम तीव्रता वाली ऊर्जा को दर्शाता है और 9 उच्चतम तीव्रता वाली ऊर्जा को दर्शाता है।

यह भी पढ़ें: Oldest Earthquake: अफ्रीका में मिला भूकंप का सबसे पुराना सबूत, 3.3 अरब साल पुरानी चट्टानों में मिलीं हैरान करने वाली चीजें