US विरोध: अमेरिका में पुलिस ने फिलीस्तीन समर्थक प्रदर्शनकारियों को एमआईटी परिसर से हटाया, तंबू उखाड़े

छवि स्रोत: एपी
अमेरिका में फिलिस्तीन समर्थकों का विरोध प्रदर्शन (प्रतीकात्मक तस्वीर)

बोस्टन: पुलिस ने शुक्रवार तड़के मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एमआईटी) में फिलिस्तीन समर्थक तंबू हटा दिए। इतना ही नहीं, पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को फिलाडेल्फिया में पेन्सिलवेनिया विश्वविद्यालय के परिसर से बाहर निकाल दिया। यह कार्रवाई पुलिस द्वारा एरिज़ोना विश्वविद्यालय में एक तंबू हटाने और प्रदर्शनकारियों पर आंसू गैस छोड़ने से कुछ ही घंटे पहले हुई। पुलिस सुबह 4 बजे एमआईटी परिसर में पहुंची और प्रदर्शनकारियों को वहां से जाने के लिए 15 मिनट का समय दिया।

पुलिस कार्रवाई कर रही है

विश्वविद्यालय अध्यक्ष ने कहा कि घटनास्थल नहीं छोड़ने वाले 10 प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार कर लिया गया। इस बीच, परिसर के बाहर जमा भीड़ ने नारे लगाए लेकिन सुबह छह बजे तक भीड़ तितर-बितर हो गई। टक्सन में, पुलिस ने गुरुवार रात एरिज़ोना विश्वविद्यालय परिसर में प्रदर्शनकारियों पर आंसू गैस छोड़ी। फिलाडेल्फिया में शुक्रवार तड़के, पुलिस ने उन लोगों को हिरासत में ले लिया जो दो सप्ताह से अधिक समय से पेंसिल्वेनिया विश्वविद्यालय परिसर में डेरा डाले हुए थे। न्यूयॉर्क शहर के कोलंबिया विश्वविद्यालय में लगभग तीन सप्ताह पहले विरोध प्रदर्शन शुरू हुआ। तब से यह देश भर के कॉलेज परिसरों में फैल गया है।

2,500 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया गया

प्रदर्शनकारी इज़राइल-हमास युद्ध में हुई मौतों पर ध्यान आकर्षित करने की कोशिश कर रहे हैं और अपने शैक्षणिक संस्थानों से इज़राइल या युद्ध का समर्थन करने वाली कंपनियों के साथ व्यापार करना बंद करने का आह्वान कर रहे हैं। फ़िलिस्तीन के समर्थन में प्रदर्शन करने पर 2,500 से अधिक लोगों को गिरफ़्तार किया गया है। एमआईटी अध्यक्ष सैली कोर्नब्लुथ ने शुक्रवार की गिरफ्तारियों पर एक पत्र में लिखा कि यह सुनिश्चित करना उनकी जिम्मेदारी है कि परिसर सुरक्षित रहे और हर कोई अपने विचार व्यक्त करने के लिए स्वतंत्र महसूस करे। (एपी)

यह भी पढ़ें:

पोप फ्रांसिस ने लोगों से की अधिक बच्चे पैदा करने की अपील, दी चेतावनी, ‘भविष्य के लिए…’

राष्ट्रपति बाइडेन के करीबी शख्स ने भारत में लोकतंत्र से जुड़ी चिंताओं को किया खारिज, कही बड़ी बात

नवीनतम विश्व समाचार