World War III: क्या शुरू होने वाला है तीसरा विश्व युद्ध? पश्चिमी देश क्यों करने लगे ऐसी तैयारी?

दुनिया में एक बार फिर तीसरे विश्व युद्ध की आहट सुनाई देने लगी है. पिछले हफ्ते ब्रिटिश रक्षा सचिव ग्रांट शाप्स ने एक भाषण में कहा था कि हमें अगले पांच वर्षों में चीन, रूस, ईरान और उत्तर कोरिया के साथ युद्ध के लिए तैयार रहना चाहिए। इसी समय पश्चिमी देशों के शक्तिशाली संगठन नाटो ने घोषणा की कि वह तीसरे विश्व युद्ध के लिए अभ्यास शुरू करने जा रहा है। जर्मनी का युद्ध प्लान लीक हो गया है जिससे पता चलता है कि वह विश्व युद्ध के लिए हथियार जमा कर रहा है. आख़िर पश्चिमी देश ऐसी तैयारी क्यों कर रहे हैं? क्या सचमुच अगले कुछ वर्षों में तीसरा विश्व युद्ध होने वाला है?

नाटो को डर है कि जैसे रूस यूक्रेन पर हमला कर रहा है, वैसा ही वह पश्चिमी देशों के साथ भी कर सकता है। इससे निपटने के लिए नाटो ने सभी देशों से तुरंत सैनिकों की भर्ती करने और नागरिकों को प्रशिक्षित करने की अपील की है. नाटो अधिकारियों ने हाल ही में कहा था कि हमें एक नागरिक सेना की सख्त जरूरत है, जो मौका पड़ने पर हथियार उठा सके। दूसरी ओर, लीक हुए जर्मन खुफिया दस्तावेजों से पता चला है कि जर्मनी तीसरे विश्व युद्ध के लिए युद्ध की योजना बना रहा है। उसे डर है कि रूसी सेना बेलारूस से पश्चिम की ओर बढ़ सकती है, इससे निपटने के लिए हथियार बहुत ज़रूरी हैं.

हाइब्रिड हमले की तैयारी
जर्मन अखबार बिल्ड में प्रकाशित इन दस्तावेजों से पता चला है कि देश के सशस्त्र बल पूर्वी यूरोप में हाइब्रिड हमले की तैयारी कर रहे हैं। दस्तावेज़ों के मुताबिक, रूस सुवाल्की गैप नाम के इलाके को जीतना चाहता है. इसके लिए वह नाटो के डर का हवाला देकर इस इलाके पर बमबारी कर सकता है. सुवाल्की गैप एक पोलिश-लिथुआनियाई गलियारा है जो बेलारूस और कलिनिनग्राद के बीच स्थित है। लीक हुए दस्तावेज़ में कहा गया है कि 30,000 जर्मन सैनिकों को रक्षा के लिए तैनात किया जाएगा। द गार्जियन की एक रिपोर्ट के मुताबिक, जर्मनी के रक्षा मंत्री बोरिस पिस्टोरियस ने कहा, हमें यह ध्यान रखना होगा कि रूस किसी भी दिन नाटो देशों पर हमला कर सकता है। पांच से आठ साल के भीतर ऐसा होने का खतरा है.

नागरिकों को हथियार रखने होंगे
ब्रिटिश सेना प्रमुख जनरल सर पैट्रिक सैंडर्स ने कहा कि ब्रिटिश नागरिकों को भविष्य में रूस से लड़ने के लिए तैयार रहना होगा। उन्हें हथियारों का इस्तेमाल करना होगा क्योंकि इसकी जरूरत पड़ेगी.’ पूर्व ब्रिटिश रक्षा सचिव बेन वालेस ने पिछले साल चेतावनी दी थी कि युद्ध करीब आ रहा है। दूसरी ओर, नाटो को डर है कि जिस तरह से हालात बन रहे हैं, अगले कुछ सालों में विश्व युद्ध तय है. जो संभवतः परमाणु युद्ध में बदल जाएगा और दुनिया को नष्ट कर देगा। नाटो सचिव ने कहा, इसके सबूत सामने आने लगे हैं. इसलिए तैयारी की जरूरत है. इसे देखते हुए ब्रिटेन नए सैनिकों की भर्ती शुरू करने की तैयारी कर रहा है. जानकारों के मुताबिक, वह एक नागरिक सेना बनाने की योजना पर भी काम कर रहा है। दूसरी ओर, जॉर्डन में अमेरिकी सैन्य अड्डे पर घातक ड्रोन हमले के बाद अमेरिका ने ईरानी प्रॉक्सी के खिलाफ जवाबी कार्रवाई करने की कसम खाई है। इससे विश्व युद्ध भड़क सकता है. क्योंकि ईरान को चीन का परोक्ष समर्थन मिल रहा है. पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने तो यहां तक ​​दावा कर दिया है कि दुनिया तीसरे विश्व युद्ध के कगार पर है.